भारत में हमारा काम लगभग एक दशक पहले शुरू हुआ। तब हमारा मकसद एचआईवी- बचाव का एक आदर्श कार्यक्रम विकसित करना था। इसके बाद से हमारे काम का दायरा बढ़ता गया और अब मातृत्व और बाल स्वास्थ्य, स्वास्थ्य और पोषण सेवा, टीके और नियमित टीकाकरण, परिवार नियोजन, कृषि विकास, स्वच्छता, संक्रामक रोगों की रोकथाम और वित्तीय समावेशीकरण इसमें शामिल हैं। अपने साझेदारों के साथ मिल कर हम ऐसे नतीजे हासिल कर पाते हैं जिन्हें अलग-अलग चल कर हम में से कोई हासिल नहीं कर सकता था।

नेतृत्व

नचिकेत मोर
निदेशक, भारत कार्यालय


नचिकेत मोर भारत के सर्वाधिक वंचित तबकों में स्वास्थ्य, स्वच्छता, वित्तीय समावेशीकरण और कृषि के विकास के लिहाज से चल रहे फाउंडेशन के प्रयासों का नेतृत्व करते हैं। वे और फाउंडेशन की नई दिल्ली स्थित टीम भारत की केंद्र और राज्य सरकारों, स्थानीय और वैश्विक गैर सरकारी संगठनों, सामुदायिक समूहों, शोधकर्ताओं और निजी क्षेत्र के साथ करीबी तालमेल रख कर काम करते हैं ताकि भारत अपने स्वास्थ्य और विकास के महत्वाकांक्षी लक्ष्यों को हासिल कर सके।

पूर्ण-कालिक रूप से फाउंडेशन से जुड़ने से पहले नचिकेत फाउंडेशन के भारत कार्यालय में अंश-कालिक सीनियर फेलो थे। उससे पहले उन्होंने 1987 से 2007 तक आईसीआईसीआई बैंक के साथ काम किया और 2001 से 2007 तक इसके बोर्ड ऑफ डायरेक्टर के सदस्य रहे। 2007 से 2011 तक उन्होंने आईसीआईसीआई फाउंडेशन के संस्थापक प्रेसिडेंट के तौर पर काम किया।

नचिकेत भारतीय रिजर्व बैंक, राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड), माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनैंस एजेंसी और क्रिसिल के बोर्ड के सदस्य हैं। वे हिमाचल प्रदेश के राज्य स्वास्थ्य आयोग, भारत सरकार के प्राइमरी केयर टास्क फोर्स और वाशिंगटन डीसी की एकेडमी ऑफ मेडिसिन के टास्क फोर्स ऑन ग्लोबल हेल्थ के सदस्य हैं। हाल में उन्होंने भारतीय रिजर्व बैंक के लिए लघु व्यापार और निम्न आय परिवार के लिए व्यापक वित्तीय सेवाओं पर समिति के अलावा पेमेंट बैंकों की लाइसेंसिंग पर समिति की भी अध्यक्षता की।

नचिकेत येल वर्ल्ड फेलो हैं और इन्होंने मुंबई विश्वविद्यालय से भौतिकी में स्नातक, भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम), अहमदाबाद से प्रबंधन में स्नातकोत्तर डिप्लोमा और पेनसिल्वैनिया विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में पीएचडी की है, जहां उन्होंने व्हार्टन स्कूल से वित्त में विशेषता हासिल की।

कार्यालय पता और संपर्क संबंधी जानकारी

बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन
कैपिटल कोर्ट
पांचवां तल,
ओलोफ पाल्मे मार्ग,
मुनिरका, दिल्ली
91-11-4713-8800

फाउंडेशन भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की ओर से विदेशी मुद्रा प्रबंधन कानून (फेमा) के तहत मिली मंजूरी के अंतर्गत एक शाखा कार्यालय के तौर पर काम करता है और उपयुक्त भारतीय कानूनों के तहत रजिस्टर्ड है। विश्व भर में हम अपने सभी अनुदान सियटल से करते हैं और पुष्टि करते हैं कि भारत में हमारे अनुदान प्राप्त करने वाले सभी संगठन विदेशी अनुदान प्रबंधन कानून (एफसीआरए) का सम्मान करते हैं।

भारत में हमारा फाउंडेशन

भारत में हमारे प्रयास मुख्य रूप से उन क्षेत्रों में हैं जो भारत के सर्वाधिक वंचित समुदायों के भविष्य को प्रभावित करते हैं: प्रजनन संबंधी, मातृत्व, नवजात और बाल स्वास्थ्य, पोषण; स्वच्छता; कृषि विकास और वित्तीय समावेशीकरण। भारत में हमारे काम के बारे में और जानकारी के लिए आप यहां से हमारा ब्रोशर डाउनलोड कर सकते हैं।


Read in English
हिंदी में पढ़ें

काम के अवसर

हमें ठोस शैक्षणिक योग्यता और संबंधित अनुभव वाले उम्मीदवारों की तलाश है जो व्यापक लोकहितों के लिए समर्पित हों। अगर आपमें अनुभव और अनुशासन के साथ हमें हमारे लक्ष्य तक पहुंचने में सहयोग करने का इरादा है तो हम चाहेंगे कि आप हमारे यहां अवश्य आवेदन करें।


उपलब्ध अवसर सर्च करें